सेलर को Amazon और Flipkart से कितना मुनाफा होता है? Amazon और Flipkart कैसे पैसा कमाते हैं?

Flipkart अपनी वेबसाइट पर सेलर द्वारा प्रॉडक्ट लिस्ट करने पर कोई पैसा नहीं लेता है लेकिन Amazon प्रॉडक्ट को वेबसाइट पर लिस्ट करने की फीस 20 रुपए अलग से लेता है।


How Amazon and Flipkart Make Money, मैं आपको बता दूँ कि Amazon, Flipkart, Pepperfry इत्यादि जैसी ई-कॉमर्स वेबसाइट, अधिकांश पैसा कमिशन के तौर पर काट लेती हैं जिससे उन्हें मोटी रकम की कमाई होती है। एक उदाहरण के लिए Amazon और Flipkart पर अपने हर प्रॉडक्ट की बिक्री के लिए हमें अपने प्रॉडक्ट की MRP का 33% देना होता है।

Flipkart अपनी वेबसाइट पर सेलर द्वारा प्रॉडक्ट लिस्ट करने पर कोई पैसा नहीं लेता है लेकिन जब भी कोई प्रॉडक्ट बिकता है तो Flipkart कमिशन जरूर लेता है। कमिशन प्रोडक्ट की श्रेणी के हिसाब से निर्भर करता है, हर प्रोडक्ट का कमिशन एक समान नहीं होता। हर प्रोडक्ट की अलग अलग श्रेणी होती है और कमिशन भी अलग अलग होते हैं। जिनकी रेंज 10% से लेकर 33% तक हो सकती है।

जाती के आधार पर आरक्षण कितना सही? क्या भीमराव अम्बेडकर ने आरक्षण के सहारे फैलाया जातिवाद?

उदाहरण के लिए आप अगर Flipkart से 100 रुपए का कोई सामान लेते हैं तो Flipkart उसमें से 15 रुपए से 33 रुपए तक और टैक्स काटकर सेलर को पैसे देता है। टैक्स काटने के बाद एक सेलर को 100 रुपए का समान बेचने पर 60 से 88 रुपए तक मिलते हैं। लगभग लगभग यह फार्मूला सभी ई-कॉमर्स वैबसाइट पर लागू होता है।

Flipkart और Amazon के बजाये इवैंट पर सेलर को देनी होती है डिस्काउंट

How Amazon and Flipkart Make Money
How Amazon and Flipkart Make Money

इसके अलावा जब भी कोई बड़ा इवैंट होता है जैसे बिग बिल्यन डे सेल (Big Billion Day Sale) इत्यादि तो अब Flipkart, Amazon इत्यादि सेलर से डिस्काउंट दिलवाते हैं, वे अपनी जेब से पैसा नहीं देते हैं। चूँकि मैं Amazon पर अपने प्रॉडक्ट बेचता हूँ तो आपको बता सकता हूँ कि मैं कितना कमिशन देता हूँ। 15% प्रॉडक्ट की MRP का सीधा कमिशन। इसमें 18% टैक्स अलग से लगता है। इसके अलावा 20 रुपए प्रॉडक्ट को Amazon की वेबसाइट पर लिस्ट करने की फीस अलग से लगती है। इस पर भी 18% टैक्स लगता है। अगर हम अपने प्रॉडक्ट पर लगने वाली शिपिंग फीस अलग से लेते हैं तो Amazon उस फीस का भी 8% काट लेता है, इस पर भी टैक्स लगता है।

USB कंडोम क्या होता है ? इसका आविष्कार क्यों किया गया और इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है ?

अगर हम Amazon की पार्सेल सेवा का इस्तेमाल नहीं करते हैं और खुद से प्रॉडक्ट शिप करते हैं तब हमें “सबसे कम” कमिशन देना होता है जो टैक्स इत्यादि जोड़ कर क़रीब 22% बैठता है। अगर इन उत्पादों को बेचने से हमें मुनाफा हो और वह मुनाफा साल भर में 5 लाख से ज़्यादा हो तो हमें उस पर 20% का आयकर भी देना होता है।

अगर हम Amazon से प्रॉडक्ट शिप करवाते हैं

How Amazon and Flipkart Make Money
How Amazon and Flipkart Make Money

अब मान लीजिए कि अगर हम Amazon द्वारा प्रॉडक्ट शिप भी करवाते हैं जिसे Amazon FBA (Amazon द्वारा पैक और शिप करना) कहते हैं तो हमें प्रॉडक्ट के आकार के हिसाब से पैककिंग फीस और Amazon के गोदाम में अपना प्रॉडक्ट रखने के लिए क्यूबिक फीट के हिसाब से भंडारण फीस भी देनी होगी। अगर कोई ग्राहक प्रॉडक्ट वापस करता है तब भी हमें एक सेलर होने के नाते शिपिंग फीस अमजों को देनी ही होती है। अगर हम Amazon पर एफ़बीए (FBA) करते हैं तो औसतन हमें प्रॉडक्ट की MRP का 40% Amazon को देना होता है।

प्लास्टिक के उपयोग से शुगर और कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी हो सकती है।

इस जानकारी के मुताबिक मैं आपसे यही कहना चाहूंगा की अगर आप भी Flipkart और Amazon जैसी e-Commerce वेबसाइट पर सेलर बनना चाहते हैं और अगर आपके प्रोडक्ट पर शुरुआत में बड़ा मुनाफ़ा नहीं है तो आप Amazon FBA का इस्तेमाल नहीं कीजिये। जब आप बहुत बड़े सेलर बन जाते हैं और आपके प्रोडक्ट पर मोती रकम मुनाफे के तौर बचने लगती है तब आप अपनी सुविधा के लिए Amazon FBA का इस्तेमाल कर सकते हैं।

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमारे फेसबुक पेज या ट्विटर हैंडल के जरिये हमें जरूर बताएं।

Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए जुड़े हमारे फेसबुक पेजट्विटर हैंडल, और लिंकडिन पेज से।

जय हिन्द, जय भारत !

ताज़ा खबर

भारतीय आन्दोलन : कॉंग्रेस और गाँधी

क्या गाँधी जी की आंदोलन की नीति संदेह से घिरी नही है? वे कभी आंदोलन शुरू करते फिर वापस...

सरकार का शराब की दुकानों का खोलना मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा।

सरकार अपनी अर्थवयवस्था को सुधारने के लिए लोगों को उन चीज़ों का सेवन करने के लिए कैसे बढ़ावा दे...

भारतीय जनतंत्र :एक भ्रमजाल

लोकतंत्र वेदों की देन है ऐसा कहना पूरी तरह से गलत नही होगा. सभा एवं समिति का उल्लेख ऋग्वेद...

कोरोना से लड़ाई: भारत में कोरोना वायरस की लड़ाई में मदद करने वालों की पूरी सूचि

बीसीसीआई और फिल्म एसोसिएशन ऑफ इंडिया सहित कितनों ने PM-Care Fund और CM-Relief Fund में अपना योगदान दिया है।...

भारत सरकार ने कोरोना संक्रमित लोगों की लोकेशन ट्रैक करने के लिए corona kavach मोबाइल एप्प लांच किया

भारत सरकार ने मोबाइल एप कोरोना कवच (Corona Kavach App) लॉन्च किया है। अभी पोस्ट लिखे जाने तक भारत...

नवरात्री का सातवां दिन – मां कालरात्रि देवी की आरती, मंत्र और व्रत कथा

देवी कालरात्रि का शरीर रात के अंधकार की तरह काला है इनके बाल बिखरे हुए हैं तथा इनके गले...

जरूर पढ़ें

भारतीय आन्दोलन : कॉंग्रेस और गाँधी

क्या गाँधी जी की आंदोलन की नीति संदेह से...

सम्बंधित खबरेंRELATED
आपको Recommended